ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाएं? पूरी जानकारी आसान प्रक्रिया

0

नमस्कार, PCARYA.com पर आपका स्वागत है. इस लेख में हम आपको बताएंगे कि ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाया जाता है. ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना आवश्यक क्यों है और लाइसेंस बनवाने के लिए कितनी फीस पड़ती है? सभी मुख्य प्रश्नों के उत्तर के साथ ही आपको ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना सिखाया जाएगा.

इस लेख में ड्राइविंग लाइसेंस से संबंधित जानकारी प्रदान की गई है, जानकारी आपके समझ में आएगी. आप ड्राइविंग लाइसेंस की उपयोगिता के बारे में जान पाएंगे तथा आप आसानी से अपने लिए ड्राइविंग लाइसेंस बनवा पाएंगे.

Driving license क्या है?

ड्राइविंग लाइसेंस- भारत सरकार के तंत्र द्वारा प्रदान किया जाने वाला एक प्रमाण है जो व्यक्ति को सड़क पर वाहन चलाने की अनुमति देता है. ड्राइविंग लाइसेंस के धारक को सड़क पर वाहन चलाने की योग्यताओं युक्त माना जाता है. जिस व्यक्ति को वाहन चलाना आता है उसी के नाम से ड्राइविंग लाइसेंस बनाया जा सकता है.

ड्राइविंग लाइसेंस होना आवश्यक क्यों है?

जो भी व्यक्ति सड़क पर मोटरसाइकिल कार स्कूटी ट्रक बस इत्यादि वाहन चलाना चाहता है तो उसके पास ड्राइविंग लाइसेंस होना आवश्यक होता है. बिना लाइसेंस ड्राइविंग करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाती है.

ड्राइविंग लाइसेंस के सिस्टम को इसलिए बनाया गया ताकि उन्हीं लोगों को सड़क पर वाहन चलाने की इजाजत मिल सके जो लोग ठीक तरह से ड्राइविंग करना जानते हैं. क्योंकि जिन लोगों को ड्राइविंग करना नहीं आता यदि वह लोग सड़क परिवहन चलाएंगे तो दुर्घटनाएं अधिक होंगी.

इसलिए ड्राइविंग लाइसेंस प्रदान करने से पहले लाइसेंस के लिए आवेदन करने वाले व्यक्ति का ड्राइविंग टेस्ट लिया जाता है. व्यक्ति अपनी इच्छा अनुसार कार मोटरसाइकिल टेंपो किसी भी वाहन पर टेस्ट दे सकता है.

ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाएं?

अब ड्राइविंग लाइसेंस के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है राज्य और केंद्र की परिवहन संबंधित वेबसाइट पर ऑनलाइन ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने का विकल्प मौजूद करा दिया गया है. ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए इच्छुक व्यक्ति ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं बिना किसी दलाल के.

चलिए जानते हैं किस प्रकार लाइसेंस बनवाया जाता है. ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने की प्रक्रिया के कुछ चरण होते हैं उनको ध्यान से समझिए.

लर्नर लाइसेंस

जो लोग पहली बार ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने जाते हैं उनका सबसे पहले लर्नर लाइसेंस बनाया जाता है. परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के पहले लर्नर लाइसेंस होना आवश्यक होता है. लर्नर लाइसेंस के द्वारा आप सड़क पर कार और बाइक इत्यादि चला सकते हैं.

यह लाइसेंस मात्र 6 महीने के लिए मान्य होता है 6 महीने के पहले ही आप को परमानेंट लाइसेंस बनवाना होता है.

लर्नर लाइसेंस कैसे बनवाएं?

लर्नर लाइसेंस बनवाने के लिए आपके पास कुछ जरूरी डॉक्यूमेंट होने चाहिए.

उम्र प्रूफ के लिए चाहिए होंगे ये डॉक्युमेंट:

लाइसेंस बनवाने वाले व्यक्ति का बालिक होना आवश्यक होता है इसलिए आपको अपनी उम्र सिद्ध करनी होती है. यहां पर आप “वोटर आईडी कार्ड, स्कूल सर्टिफिकेट, एलआईसी पॉलिसी, पासपोर्ट, बर्थ सर्टिफिकेट” इनमें से किसी भी एक प्रमाण का इस्तेमाल कर सकते हैं.

एड्रेस प्रूफ के लिए चाहिए होंगे ये डॉक्युमेंट

आप कहां के निवासी हैं इसका भी प्रमाण देना होता है. निवास प्रमाणित करने के लिए आप “निवास प्रमाण पत्र, वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड अथवा पासपोर्ट” उपयोग कर सकते हैं. ध्यान रहे अधिकारियों के सामने आपको इनकी ओरिजिनल कॉपी ही लेकर जानी है.

लाइसेंस की फीस

लाइसेंस बनवाने के लिए सरकार के द्वारा शुल्क तय किया गया है. जो निम्नलिखित है –

  • लर्नर लाइसेंस की फीस – 200 रुपए
  • परमानेंट लाइसेंस की फीस – 200 रुपए
  • रिन्युअल की फीस – 200 रुपए
  • इंटरनेशनल लाइसेंस की फीस – 1,000 रुपए

लर्नर लाइसेंस के लिए आवेदन

Driving license कैसे बनवाए

टेस्ट देने के लिए अपॉइंटमेंट लेने की जरूरत पड़ती है. इसके लिए वेबसाइट पर ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है.

इस वेबसाइट पर जाकर के लर्नर लाइसेंस के लिए आवेदन करें. https://parivahan.gov.in/sarathiservice/newLLDet.do

  • यहां पर आपको अपनी निजी जानकारियां भरनी है और अपना डॉक्यूमेंट अपलोड करना है.
  • अपना नाम पता उम्र और सभी डिटेल भरने के बाद अपने डॉक्यूमेंट अपलोड कीजिए
  • अपनी फोटो और सिग्नेचर अपलोड कीजिए
  • इसके बाद अपॉइंटमेंट का दिन और टाइम सेट करने के विकल्प मिलेंगे
  • अब लर्नर लाइसेंस की फीस ऑनलाइन चुकाएं.

इस प्रकार आवेदन हो जाएगा और दी गई अपॉइंटमेंट की तारीख के अनुसार टेस्ट देने के लिए पहुंच जाएं.

लर्निंग लाइसेंस के टेस्ट में क्या होगा?

अपॉइन्टमेंट के टाइम पर रिजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस जाएं. यहां से 10 सवाल पूछे जाते हैं जो कि ड्राइविंग से संबंधित होते हैं. 6 सवालों का सही जवाब देने पर आपको लर्नर लाइसेंस मिल जाता है. यह काफी आसान है. यह लाइसेंस टेस्ट पास करते ही तुरंत मिल जाता है.

परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन

Learner license और permanent driving license

लर्नर लाइसेंस और परमानेंट लाइसेंस में बहुत अंतर होता है. बिना रोक-टोक के हमेशा के लिए ड्राइविंग करने के लिए व्यक्ति को परमानेंट लाइसेंस बनवाने की जरूरत होती है. और पहली बार परमानेंट लाइसेंस बनवाने के लिए आपके पास लर्नर लाइसेंस होना चाहिए. इसलिए जब लर्नर लाइसेंस बन जाए तो आप परमानेंट लाइसेंस के लिए आवेदन कर सकते हैं.

परमानेंट लाइसेंस बनवाने के लिए अपने राज्य की परिवहन वेबसाइट पर जाएं और परमानेंट लाइसेंस के लिए आवेदन करें. यहां पर आपसे आपके लर्नर लाइसेंस की डिटेल मांगी जाएगी. यह सारी जानकारी आपको आपके लर्नर लाइसेंस में लिखी हुई मिल जाएगी. ऑनलाइन फॉर्म में यह जानकारी भर दीजिए.

इसके बाद आपने जहां से लर्नर लाइसेंस बनवाया था दोबारा ड्राइविंग टेस्ट देने के लिए उसी ऑफिस का अपॉइंटमेंट लीजिए. आपको अपॉइंटमेंट के समय ऑफिस में जाकर टेस्ट देना होगा.

परमानेंट लाइसेंस के टेस्ट में क्या होता है

जिस प्रकार लर्निंग लाइसेंस में सवाल पूछ कर टेस्ट लिया जाता है उसी प्रकार परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस देने के समय भी टेस्ट होता है. यह टेस्ट अलग होता है. इसमें व्यक्ति को प्रैक्टिकल करके दिखाना होता है. यह कम अनुभवी लोगों के लिए काफी कठिन भी हो सकता है.

टेस्ट के दिन टाइम पर आपको अपनी गाड़ी अथवा बाइक लेकर जाना है क्योंकि इस बार अधिकारी ड्राइविंग करा कर टेस्ट लेगा और टेस्ट में पास होने पर ही आपको ड्राइविंग लाइसेंस मिलेगा.

इसमें अधिकारी आपसे गाड़ी चलवा कर देखेगा. यदि आप टेस्ट में पास हो जाते हैं तो 7 दिनों के अंदर ड्राइविंग लाइसेंस आपके घर पहुंचा दिया जाएगा.

निष्कर्ष

सड़क पर वाहन चलाना कोई बच्चों का खेल नहीं इसमें आपको अच्छी ड्राइविंग आनी चाहिए और इसके साथ ही कानूनी प्रक्रिया का ज्ञान होना चाहिए. यदि आप सड़क पर ड्राइविंग कर रहे हैं तो आपके पास ड्राइविंग लाइसेंस होना आवश्यक है. उम्मीद करते हैं इस लेख के माध्यम से आपको ड्राइविंग लाइसेंस की उपयोगिता तथा बनवाने की प्रक्रिया समझ में आ गई हो.

Leave A Reply

Your email address will not be published.