Auroville : ऐसा शहर जहां न पैसा चलता है ना किसी की सरकार

Auroville : आप अब यही सोच रहे होंगे कि भारत में शायद ही कोई ऐसा शहर हो जहां न पैसा चलता है न सरकार. आज से पहले आपने शायद उसका नाम सुना नहीं होगा. लेकिन यह बड़ा सत्य है और सबसे बड़ी बात यह है कि यह बेमिसाल शहर भारत में ही है. यह शहर चेन्नई से मात्र 150 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

तमिलनाडु में स्थिति शहर अपने आप में जीने के तरीके की बड़ी मिसाल है. इस जगह का नाम “ओरोविल (Auroville)” है इसका अर्थ है “उषा नगरी या फिर नए जीवन की नगरी”. इसकी 1968 में स्थापना तमिलनाडु की विल्लुपुरम जिले में मीरा रिचर्ड द्वारा की गई थी.

मीरा रिचर्ड पहले एक विदेशी महिला थी परंतु भारत में बसने के बाद इन्हें सनातन संस्कृति से प्यार हो गया. परंतु उन्होंने देखा कि धर्म में कई सारे लोगों ने अलग से कुप्रथा मिलाकर गंदा करने का प्रयास किया है. इसीलिए Meera रिचर्ड ने एक नया शहर बसाया जिसमे सभी नियम वैदिक संस्कृति के अनुसार है. सभी जाति के लोग समानता से रहते हैं. छुआछूत भेदभाव और जातीय ईर्ष्या का यहां पर नामोनिशान नहीं. प्रदूषण फैलाने वाले यंत्रों का निर्माण और उपयोग वर्जित है.

यहां पर मात्र एक मंदिर है और इस मंदिर में प्रथम धर्म सनातन के वैदिक नियम के अनुसार योग करके ईश्वर ओम का ध्यान किया जाता है.

Auroville
Auroville मंदिर (यहाँ योग और शांति का अभ्यास करते हुए ईश्वर को स्मरण किया जाता है. )

मीरा मां ने अपने एकीकृत जीवन-दर्शन को स्थापित करते हुए ओरोविल( Auroville ) को इसका चार सूत्रीय घोषणापत्र दिया.

  1. ओरोविल किसी व्यक्ति विशेष का नहीं है। ओरोविल समग्र रूप से पूरी मानवता का है। लेकिन ओरोविल में रहने के लिए व्यक्ति को दिव्य चेतना की सेवा के लिए तत्पर होना चाहिए.
  2. ओरोविल सतत शिक्षानिरंतर प्रगति और सनातन का स्थान होगा.
  3. ओरोविल भूत और भविष्य के बीच का पुल बनने का आकांक्षी है। वाह्य और भीतरी सभी प्रकार के आविष्कारों का लाभ उठाते हुए ओरोविल भविष्य की अनुभूतियों की तरफ निर्भीकता से आगे बढ़ेगा.
  4. ओरोविल एक वास्तविक मानवीय एकता के जीवरूप शरीर के लिए भौतिक और अध्यात्मिक अनुसंधान का स्थान होगा.

Auroville में कागज के नोट और सिक्कों का इस्तेमाल नहीं होता. बल्कि एक दूसरे के खाते में खर्च लिखा जाता है. यहां रहने वाला हर व्यक्ति एक सेवक की तरह नागरिक बनता है. इसकी स्थापना में 124 राष्ट्र के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया था. वर्तमान में यहां पर 44अलग-अलग देशों से नागरिक रहते हैं. यहां की जनसंख्या बहुत कम है.

यह शहर शांतिपूर्ण तरीके से जीवन व्यतीत कर रहा है. सन 2000 में एपीजे अब्दुल कलाम ने शहर का दौरा किया और उन्होंने दौरे के उपरांत कहा मानव जाति के सुंदर भविष्य के लिए इस तरह के प्रयास का समर्थन करना भारत का कर्तव्य है.

1 thought on “Auroville : ऐसा शहर जहां न पैसा चलता है ना किसी की सरकार”

Leave a comment